देश में मकर संक्रांति की धूम


Nisha
14-01-2023 IST
thejbt.com

15 जनवरी को मनाई जाएगा पर्व

    सूर्य मकर राशि में 15 जनवरी को अगली सुबह 3 02 बजे प्रवेश करेगा इसलिए मकर संक्रांति का पर्व कल मनाया जाएगा।

Credit: google

धार्मिक दृष्टि से महत्व

    इस दिन कई तरह के धार्मिक कार्य भी किए जाते हैं। कई दृष्टि से इस पर्व का महत्व है।

Credit: google

गंगा स्नान और दान का महत्व

    इस दिन गंगा स्नान किया जाता है। उसके बाद दान भी दिया जाता है। गंगा स्नान और दान को इस दिन बहुत ही शुभ माना जाता है।

Credit: google

राज्यों में अलग अलग नाम से की जाती है सेलिब्रेट

    यूपी बिहार में ये खिचड़ी के नाम से मनाई जाती है। तमिलनाडु में इसे पोंगल कर्नाटक करेल आंध्र प्रदेश में इसे मकर संक्राति और असम में इसे बीहु नाम से मनाई जाती है।

Credit: google

क्यों खाते हैं दही चूड़ा

    यूपी बिहार में विशेष कर मकर संक्रांति को खिचड़ी नाम से जाना जाता है। इस दिन दही चूड़े का सेवन वहां के लोग करते हैं।

Credit: google

खिचड़ी का महत्व

    इसी समय धान की फसल की कटाई होती है और नए चावल निलकते हैं। इन्हीं चावल की खिचड़ी बना कर सूर्य देव को भोग लगाया जाता है इसलिए मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी बनाई जाती है।

Credit: google

तिलकुट खाने का महत्व

    तिल के लड्डू और तिल की गजक और तिलकुट खाने का महत्व है।

Credit: google

जानिए सर्दियों में अमरूद खाने के फायदे