सर्वप्रथम गणेश का ही पूजन क्यों?


Dheeraj Dwivedi
08-01-2023 IST
thejbt.com

शुभकार्य का आरंभ

    किसी भी शुभकार्य का आरंभ करने के पूर्व गणेश जी की पूजा करना आवश्यक माना गया है। क्योंकि उन्हें विघ्नहर्ता और ऋद्धि-सिद्धि का स्वामी कहा जाता है।

Credit: Google

गणेश जी का ध्यान

    गणेश जी के स्मरण और ध्यान एवं जप और आराधना से कामनाओं की पूर्ति होती है और विघ्नों का नाश होता है। ये शीघ्र प्रसन्न होने वाले बुद्धि के अधिष्ठाता और साक्षात प्रणव रूप है।

Credit: Google

गणेश का अर्थ है

    गणों का ईश अर्थात गणों का स्वामी। किसी पूजा आराधना और कार्य में गणेश जी के गण कोई विघ्न-बाधा न पहुंचाएं। इसलिए सर्वप्रथम गणेश पूजा करके उसकी कृपा प्राप्त की जाती है।

Credit: Google

श्री गणेशाय नमः

    प्रत्येक शुभ कार्य के पूर्व श्री गणेशाय नमः का उच्चारण कर उनकी स्तुति अनुष्ठान में यह मंत्र बोला जाता है।

Credit: Google

वेदों में स्तुति

    कहा गया है गणानां त्वा गणपतिं हवामहे कविं कबिनामुपश्रवस्तमम। ज्येष्ठराजं ब्राम्हणां ब्रम्हणस्पत आ नः श्रृण्वन्नूतिभिः सीद सादनम।

Credit: Google

पद्मपुराण के अनुसार

    ब्रम्हा जी ने कहा है कि जो कोई संपूर्ण सृष्टि की परिक्रमा पहले कर लेगा उसे ही प्रथम पूजा जाएगा। गणेश जी राम नाम लिखकर उसकी सात परिक्रमा की बने प्रथम पूज्य।

Credit: Google

शिव पार्वती

    शिव बोले पृथ्वी की तीन बार परिक्रमा करके जो कैलास लौटेगा वही अग्रपूजा के योग्य होगा। शिव और माता पार्वती की ही तीन परिक्रमा कर गणेश जी अग्रपूज्य हो गए।

Credit: Google

सर्वप्रथम गणेश का ही पूजन क्यों?