देश की सबसे पुरानी फॉउण्डेशन्स में से एक टाटा ट्रस्ट में सिद्धार्थ शर्मा को ट्रस्ट का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया है, इसके साथ ही अपर्णा उप्पलुरी को मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) का पद प्राप्त हुआ है। इन पदों पर इनकी नियुक्ति 1 अप्रैल 2023 से प्रभावी होगी। टाटा ट्रस्ट की टाटा संस में 66 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।टाटा संस के मुख्य स्टेबिलिटी अफ़सर रहे सिद्धार्थ शर्मा, एन श्रीनाथ का स्थान लेंगे जिन्होंने 2022 में सेवानिवृति के बाद अपने सीईओ के पद से इस्तीफ़ा दे दिया था।

टाटा ट्रस्ट में सीओओ के पद पहली बार नियुक्ति की जा रही है जिसे अपर्णा उप्पलुरी संभालेंगी। अपर्णा उप्पलुरी वर्तमान में फोर्ड फाउंडेशन में भारत, नेपाल और श्रीलंका के कार्यक्रम निदेशक हैं। बता दें कि सिद्धार्थ शर्मा को दो दशकों तक सरकारी सेवा का अनुभव है वहीँ अपर्णा उप्पलुरी को रणनीतिक विकास योजना का। टाटा ट्रस्ट ने एक बयान में कहा कि, "शर्मा दो दशकों से सरकारी सेवा में हैं जहाँ उन्होंने महत्वपूर्ण विभागों में कार्यभार संभाला है, वे भारत के 13 वें और 14 वें राष्ट्रपति के वित्तीय सलाहकार के रूप में भी काम किया है। बाद में वह टाटा ग्रुप में शामिल हो गए, जहाँ उन्होंने स्टेबिलिटी पोर्टफोलियो के समूह का नेतृत्व किया। वहीँ उप्पलुरी परोपकार, महिलाओं के अधिकार, सार्वजानिक स्वास्थय, कला और संस्कृति के क्षेत्र में रणनीतिक योजना और कार्यक्रम विकास के क्षेत्र में जानी मानी हस्ती हैं। इसके साथ ही उप्पलुरी ने फोर्ड फाउंडेशन में विभिन्न कार्यक्षेत्रों की देख रेख के लिए कार्यक्रम निदेशक के रूप में भी काम किया है। उन्होंने लैंगिक न्याय को मज़बूत करने के लिए कार्यक्रम सम्बन्धी प्रतिबद्धता को आगे बढ़ने के लिए फोर्ड फाउंडेशन में अनुदान देने की पहल की।"