रागी एक अल्टीमेट सुपर फूड है। भले ही आम लोगों के आहार में रागी गेहूं और चावल की वजह से पिछड़ गया है लेकिन डॉक्टर्स आजकल रागी, बाजरा, जौ जैसे अनाज और उनका आटा खाने की सलाह दे रहे हैं। अगर रागी की बात करें तो पिछले 2000 सालों से पूरी दुनिया में उगाई और खाई जाने वाली फसल है।

ऐसा माना गया है कि अगर अपनी डाइट में नियमित रूप से रागी को शामिल किया जाए तो इससे कुपोषण दूर होता है और मनुष्य का शरीर स्वस्थ बनता है। यह मोटापा नहीं बढ़ाता और इससे शरीर को तरह-तरह के फायदे होते हैं।

वजन के लिए लाभदायक रागी -

रागी में भरपूर मात्रा में फाइबर और प्रोटीन होती है। इससे जल्दी-जल्दी भूख नहीं लगती और आप बार-बार खाने से बचे रहते हैं। नियमित रूप से रागी के सेवन से शरीर में फाइट की समस्या नहीं होती।

कंट्रोल में रहता है ब्लड शुगर लेवल -

रागी का सेवन जब आप किसी भी रूप में करते हैं तो शरीर में ब्लड शुगर लेवल स्थिर होता है।

खून की कमी होगी दूर -

जिनके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी रहती है उन्हें रागी का आटा अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। इसमें आयरन भरपूर मात्रा में होता है।

हड्डियों को बनाता है मजबूत -

हड्डियों को मजबूत रखने के लिए कैल्शियम बहुत जरूरी है और रागी में कैल्शियम होता है। हड्डियों को स्ट्रांग बनाने के लिए रागी को अपने खाने में शामिल करें।

रागी को डाइट में ऐसे करें शामिल -

रागी के आटे की रोटी और पैन केक तथा इडली और डोसा जैसे अलग-अलग तरह से बना कर खा सकते हैं। अगर मीठे के शौकीन है तो रागी का हलवा और पेड़ा भी बना सकते हैं।

ये लोग रागी का न करें सेवन -

जिन लोगों को किडनी और डायरिया तथा कब्ज और थायराइड की समस्या है उन्हें रागी के सेवन से बचना चाहिए।

डायटीशियन से लें सलाह -

रागी के सेवन से वजन नहीं बढ़ता लेकिन वजन कम करने वालों को कितनी मात्रा में रागी का सेवन करना चाहिए इसके लिए डायटीशियन से सलाह ले सकते हैं।