फल को काटते और खाते वक्त कई बार हमें समझ नहीं आता कि छिलका हटाकर फल को खाएं या इसे छिलके के साथ ही खा लें। आजकल कैमिकल्स और मिलावट की वजह से ज्यादातर लोग फलों के छिलके को हटाकर खाते हैं। सेब से लेकर पपीता और दूसरे कई फलों में पकाने के लिए और उन्हें सुंदर और चमकदार बनाने के लिए कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी वजह से लोग छिलके को हटाकर फल खाने लगे हैं।

हालांकि इससे कई जरूरी विटामिन, फाइबर, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर को नहीं मिल पाता है। इस तरह फल खाने से भरपूर फायदा नहीं मिलता और काफी बर्बादी होती है। आइए जानते हैं कौन से फलों के छिलके हटाकर खाना चाहिए और कौन से फलों को छिलके के साथ खाना हमारे लिए फायदेमंद है।

चीकू -

चीकू को छिलके के साथ खाना चाहिए। इसके छिलके में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट तथा पोटेशियम और आयरन होता है। यह स्किन और आंत को स्वस्थ रखता है।

नाशपाती -

नाशपाती को छिलके सहित खाना चाहिए। नाशपाती के अंदर फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। जो पेट के साथ स्वास्थ्य को सुधरने में मदद करता है।

सेब -

ज्यादातर लो छिलका हटाकर सेब कहते हैं। सेब के छिलके में एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। इसलिए सेब को छिलके के साथ ही खाना चाहिए।

आड़ू -

आड़ू को भी छिलके के साथ खाना चाहिए। इसके छिलके में एंटीऑक्सीडेंट और कई विटामिन होते हैं। आड़ू को छलका सहित खाने से डायटरी फाइबर मिलता है।

आलू बुखारा -

आलू बुखारा को भी छिलके सहित खाना चाहिए। इसके छिलके में फाइबर और कई विटामिन मिलते हैं। इसलिए खाते समय इसका छिलका नहीं निकाले।

केला -

केला का छिलका भी फायदे करता है। लेकिन इसे छिलके के साथ आसान नहीं है। आप इसे छीलकर खा सकते हैं।

अनार -

अनार में भयपूर आयरन होता है लेकिन आप इसे छिलके सहित नहीं खा सकते। इसका छिलका कड़वा होता है इसलिए इसे छिलका निकालकर ही खाना चाहिए।