शाहरुख खान की बहु चर्चित फिल्म ‘पठान’ तमाम विवादों के बीच गुरुवार, 25 जनवरी को रिलीज के लिए तैयार है। गौरतलब है जब से इस फिल्म का गाना ''बेशर्म रंग'' रिलीज हुआ है, तब से इस फिल्म को खासा विरोध झेलना पड़ा है। राजनीतिक बयानबाजियों के बीच देश के कई शहरों में इस फिल्म के खिलाफ बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन भी किया है। वहीं अब फिल्म ‘पठान’के खिलाफ बजरंग दल के रुख में नरमी पड़ती नजर आ रही है।

वीएचपी ने फिल्म देखने या न देखने का फैसला जनता पर छोड़ा है

जी हां, बता दें कि कल तक जहां बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद गुजरात में फिल्म ‘पठान’ को रिलीज न होने देने की बात पर अड़े हे थे। वहीं अब इन संस्थाओं ने बकायदे बयान जारी कर राज्य में फिल्म का विरोध न करने की बात स्वीकार की है। दरअसल, गुजरात में विश्व हिंदू परिषद के मंत्री अशोक रावल ने फिल्म 'पठान' में बदलाव करवाने के लिए सेंसर बोर्ड की तारीफ करते हुए अब फिल्म देखने या न देखने की बात जनता के ऊपर छोड़ने की बात कही है।

अपने औपचारिक बयान में अशोक रावल ने कहा है कि ‘बजरंग दल के विरोध के बाद फिल्म पठान में अश्लील गीत और भद्दे शब्दों को दूर जरूरी बदलाव किए गए हैं, जोकि हिंदू समाज के लिए अभिनंदन योग्य बात है, ऐसे में अब हम फिल्म देखने या न देखने का फैसला गुजरात के प्रबुद्ध नागरिकों पर छोड़ते हैं’। इसके साथ ही वीएचपी नेता ने फिल्म सेंसर बोर्ड, निर्माताओं और थिएटर मालिकों से ये अनुरोध भी किया है कि वो समय रहते ही अगर धर्म, संस्कृति और देशभक्ति की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए ऐसी अनुचित बातों को विरोध करेंगे तो फिर बजरंग दल और हिंदू परिषद को कोई आपत्ति करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

कुछ दिनों पहले अहमदाबादमें बजरंग दल ने जलाया था दीपिका का पुतला

बता दें कि कुछ दिनों पहले तक बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद गुजरात में फिल्म पठान का जमकर विरोध कर रहे थे। हाल ही में अहमदाबाद में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने फिल्म की लीड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण का पुतला भी जलाया था। पर अब वीएचपी नेता के बयान के साथ ही फिल्म पठान को लेकर राज्य में जारी विरोध थमता हुआ नजर आ रहा है।