भारत से दुश्मनी पाकिस्तान को बहुत भारी पड़ रही है। पुलवामा अटैक के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एक आतंकी शिविर पर अटैक किया था क्योंकि वहां पुलवामा अटैक का खूंख्वार आतंकी मसूद अजहर छिपा हुआ था। पुलवामा पर हुए आतंकी हमले में हमारे सुरक्षा बलों के 40 जवान शहीद हो गये थे। इसके बाद भारत ने दुनिया में पाकिस्तान को जिस तेजी से लपेटा , उससे पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था की रीढ़ पूरी तरह टूट गयी।

नतीजतन पाकिस्तान में आटे की ऐसी किल्लत है कि चारों ओर लूट मच गयी है। इस्लामाबाद,लाहौर और कराची जैसे शहरों में आटा खरीदने के लिए लाइनें लग गयी हैं। रही सही कसर जमाखोरों और मुनाफाखोरों ने पूरी कर दी है। आज पाकिस्तान में दुकानों से आटा गायब है।

हमने ऐसा क्यों बताया कि भारत से दुश्मनी पाकिस्तान को बहुत भारी पड़ रही है। इसकी वजह शीशे की तरह साफ है।वह ये कि बालाकोट स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने वाघा सीमा के जरिए भारत से हो रहे व्यापार पर रोक लगा दी और कहा कि जब तक भारत धारा 370 को बहाल नहीं करेगा तब तक उससे कोई वार्ता संभव नहीं है जो कि असंभव है।

इसके बाद पाकिस्तान भारत के खिलाफ दुश्मनी में इस हद तक मुब्तिला हुआ कि उसने हर अंतर्राष्ट्रीय फोरम पर भारत को घेरना शुरू किया। हर जगह कश्मीर का राग अलापा। लेकिन भारत की मज़बूत कूटनीतिक क्षमता के आगे पाकिस्तान की हेकड़ी निकलती चली गयी। ले-देकर चीन,टर्की और मलेशिया के अलावा पाकिस्तान को सबने दुलत्ती मार दी।

दुनिया के किसी मुल्क ने, यहां तक कि उसके बिरादर मुल्कों ने उसका साथ नहीं दिया। थोड़ा बहुत आवाज़ 57 देशों के इस्लामिक संगठन OIC ने उठाई पर वह तो खुद ही खांचों में बंटा है लिहाजा इसका पाकिस्तान को कोई लाभ नहीं हुआ।

आज हालत ये है कि पाकिस्तान के वित्त मंत्री कभी IMF के दरवाजे पर जाकर मदद मांगते हैं तो कभी वर्ल्ड बैंक के दरवाजे पर दस्तक देते हैं। परेशानी है ये कि ये दोनों संस्थाएं अमेरिका के इशारे पर ही लोन देती हैं। लिहाजा पाकिस्तान को वैसी मदद नहीं मिली। पाकिस्तान डिफॉल्ट होने के कगार पर है।उसका विदेशी मुद्रा भंडार घट गया है जो तकरीबन 5 बिलियन अमेरिकी डॉलर है बचा है । हालांकि एक बार फिर मुसीबत में पाकिस्तान का साथ देने वाले सऊदी ने मदद का हाथ बढ़ाते हुए 10 बिलियन कर्ज देने की बात कही, वर्ना इस सर्दी में पाकिस्तानियों की जान पर बन आती।पाकिस्तान में बिजली का भी भारी संकट है।बिजली बचाने के लिए दुकानों और मॉल वगैरह को रात 8 बजे बंद करने के आदेश दिए गये हैं। बिजली की भारी कमी की वजह से रात आठ बजे बाद पाकिस्तान के बड़े शहरों में सन्नाटा पसर जाता है।

इस बीच पाकिस्तान के नए आर्मी चीफ जनरल आसिम मुनीर अहमद शाह सऊदी अरब के दौरे पर गये थे जिसका मक्सद था उनसे आर्थिक मदद लेना। प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ खुद यूरोप के दौरे पर हैं। पाकिस्तान में केवल 10 फीसदी अमीर लोगों के अलावा बाकी अवाम का बुरा हाल है। इस हालत में पाकिस्तान भारत से संबंध ठीक करने की कोशिश में है लेकिन वह हमारी सरकार को ये यकीन नहीं दिला पा रहा कि अब वह भारत में आतंकी गतिविधियों रोकेगा।जब तक ये आश्वासन नहीं मिलता तब पाकिस्तान से किसी भी प्रकार की बातचीत संभव नहीं है।