कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिग्विजय सिंह के पुलवामा हमले और सर्जिकल स्ट्राइक पर दिए बयान से किनारा कर लिया है। भारत जोड़ो यात्रा इन दिनों अपने आखिरी चरण के दौरान जम्मू-कश्मीर में है।आज यानी मंगलवार को जम्मू-कश्मीर में राहुल गांधी ने दिग्विजय सिंह के बयान को उनका निजी बयान बताया। इतना ही नहीं राहुल ने कहा, अगर मैंने कभी गुलाम नबी आजाद और चौधरी लाल सिंह को दुख पहुंचाया हो, तो मैं उनसे माफी मांगी मांगता हू।  

जम्मू-कश्मीर में आज राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस की राहुल गांधी ने कहा, "जो दिग्विजय सिंह ने कहा है उससे मैं बिल्कुल सहमत नहीं हूं, हमारी आर्मी पर हमें पूरा भरोसा है अगर आर्मी कुछ करे तो उन्हें सबूत देने की जरूरत नहीं है। यह उनका बयान निजी है वो हमारा नहीं है।"

"सेना के शौर्य पर सवाल नहीं"

इस दौरान राहुल गांधी ने साफ कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगना सही नहीं है। उन्होंने कहा, "सेना के शौर्य पर कोई सवाल नहीं किया जा सकता। सेना जो भी करें वो शौर्य की बात होती है। अगर आर्मी कुछ करे तो सबूत देने की कोई जरूरत नहीं है।"

कांग्रेस अध्यक्ष ने भी जताई असहमति-

दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगने वाले बयान पर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी टिप्पणी की। उन्होंने संवादाताओं ने बात करते हुए साफ कहा,"हम पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि पार्टी सेना के साथ खड़ी है। हम हमेशा देश के लिए काम करते रहे हैं और करते रहेंगे। हम अपनी सेना का बहुत सम्मान करते हैं।