आज पूरा देश अपना 74वां गणतंत्र दिवस मनाया रहा है। हर तरह लोग देश भक्ति में डूबे हुए है। आज का गणतंत्र दिवस समारोह बेहद खास होने वाला है इस खास मौके पर भारत सैन्य कौशल, सांस्कृतिक विविधता और कई अन्य अनूठी पहलों का गवाह बनेगा। कर्तव्य पथ पर इस बार नारी शक्ति का बोलबाला रहेगा। जिसे देखने के बाद महिलाओं का गौरव पूरा देश देखेगा।

आपको बता दें कि गणतंत्र दिवस समारोह की परेड में पहली बार सीमा सुरक्षा बल के ऊंटे के दस्ते शामिल होंगे। ऊंटे के दस्ते में महिलाएं भी शामिल हो रही हैं। 1976 से सीमा सुरक्षा बल (BSF) ऊंट का दस्ता हर साल गणतंत्र दिवस के परेड समारोह में शामिल हो रहा है।

हर साल पुरुष BSF ऊंट का दस्ता परेड में भाग ले रहा है। ऐसा पहली बार होगा जब सीमा सुरक्षा बल ऊंट के दस्ते में महिला भी शिल होंगी। आपको बता दें कि महिला सुरक्षा बलों ने शाही पोशाक पहनीं रहेंगी। उनकी ये ड्रेस ड्रेस डिजाइनर राघवेंद्र राठौर ने डिजाइन की है।

उनकी पोशाक में भारत की शिल्प कलाओं को उकेरा गया है। जो एक क्लासिक लुक देता है। बीएसएफ के मुताबिक इस ड्रेस में 400 वर्ष पुरानी डंका तकनीक का हाथ से जरदोजी काम किया गया है। खास बात ये है कि इस पोशाक में मेवाड़ की विशेष पगड़ी शामिल है। गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बनने के लिए BSF महिला सुरक्षा बल की 24 महिलाओं को ऊंट की सवारी की ट्रेनिंग दी गई थी।

जिसमें से 12 महिला सुरक्षा बल का सेलेक्शन हुआ है। आपको बता दें कि सीमा सुरक्षा बल के एमएस खीची के अनुसार ये महिलाएं बीएसएफ के स्थापना दिवस सामरोह की परेड में भी शामिल हुई थीं। आज परेड में शामिल होने वाली महिला सुरक्ष बल का नाम सोनल, निशा, भगवती, अंबिका, कुसुम, प्रियंका, कौशल्या, काजल, भावना और हिना शामिल हैं।