शरीर में कैल्शियम की पूर्ति करने के लिए हमेशा दूध को एक अच्छा स्त्रोत माना गया है। बचपन से ही हम सबने ये सुना है कि दूध और बाकी डेयरी प्रोडक्ट्स सेहत के लिए काफी फायदेमंद हैं। इसीलिए बचपन से ही सभी को दूध पीने की सलाह दी है। वैसे ये बात सही है कि दूध में प्रोटीन,कैल्सियम,विटामिन और मिनरल्स की भरपूर मात्रा होती है लेकिन इसका ज्यादा सेवन भी नुकसानदायक हो जाता है। जी हां, अगर हम जरूरत से ज्यादा दूध का सेवन कर रहे हैं तो इसके कई बुरे प्रभाव भी हो सकते हैं। तो चलिए जानते हैं...

शरीर में सुस्ती

कई लोगों को जहां दूध पसंद होता हैतो वहीं कुछ को दूध नापसंद होता है या उन्हें एलर्जी होती है। इन लोगों के लिए दूध का ज्यादा सेवन कई बार नुकसानदेय हो सकता है। कई बार दूध पीने से बैचेनी, मिचली,थकान और सुस्ती जैसी दिक्कतें भी हो सकती हैं।

पाचन में समस्या

कई बार दूध के सेवन से पेट भर जाता है। क्योंकि ये हैवी होने की वजह से पचने में भी ज्यादा समय लगाता हैजिससे कई बार पाचन संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं।

हड्डियों को कमजोर भी कर सकता है दूध

आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि हड्डियों के विकास और मजबूत करने के लिए दूध एक अच्छा स्त्रोत है लेकिन जरूरत से ज्यादा दूध नुकसानदायक हो सकता है।  साल 2014में आए ब्रिटिश मेडिकल जर्नल के एक अध्ययन में ये साबित हुआ है कि जिन लोगों ने कम दूध का सेवन किया उनमें हड्डियों के टूटने या सूजन से पीड़ित होने की संभावनाएं कम थीं।

कैंसर का खतरा

आप ये जानकर हैरान जरूर होंगे लेकिन एक स्टडी के मुताबिक कैल्शियम से भरपूर दूध की ज्यादा मात्रा से प्रोस्टेट कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। इस बारे में साल 2007में अमेरिकन इंस्टिट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च की एक रिपोर्ट में खुलासा किया गया था।

एक दिन में कितना दूध ठीक है

अब आपने ये तो जान लिया कि ज्यादा मात्रा में दूध का सेवन शरीर के लिए कई मायनों में खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए अगर विशेषज्ञों की मानें तो एक व्यक्ति को दिन में एक-दो ग्लास दूध पीना चाहिए। इसके अलावा आप चाहें तो पनीर, मट्ठा, दही का सेवन कर सकते हैं।