सर्दियों के दिन  हों  या फिर गर्मियों के दिन हों दोंनों ही मौसम में कभी भी लोगों को खांसी हो सकती है। यह न केवल बच्चों में ही होती है बल्कि बुजुर्गों में भी इसके लक्ष्ण देखे जा सकते हैं।

मौसम का जरा सा भी बदल जाना हमारी सेहत पर असर डालता है। इससे खांसी –जुकाम और खराश जैसी अनेक समस्याएं शरीर में प्रवेश कर लेती हैं जिससे चलते हमे अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई लोगों को इतनी भंयकर खांसी हो जाती है कि वह खांसते-खांसते परेशान होने लगते हैं लेकिन डॉक्टर की दवा लेने के बाद भी उनकी खांसी में कोई आराम नहीं मिल पाता है।

काफी ऐसे लोग होते हैं जो खांसते-खांसते इतने परेशान हो जाते हैं कि उनके सीने में भी दर्द शुरू हो जाता हैं ।जिसके कारण मरीज और परेशान हो जाता है । यह समस्या किसी भी समय किसी भी वक्त किसी को भी हो सकती है। लेकिन इस समस्या को हल्के में नहीं लेना चाहिए।

तुरंत किसी अच्छे डॉकटर से इलाज कराएं या फिर आप घरेलू उपाय भी अपना सकते हैं।

जानिए खांसी के प्रकार

तेज खांसी खांसी का तो नाम सभी ने सुना ही होगा लेकिन क्या जानते हैं कि खांसी दो प्रकार की होती हैं पहली तेज खांसी मानी जाती हैं यह खांसी कुछ समय के लिए होती है लेकिन काफी तेज लोगों को उठती हैं। यह अधिकतर ऊपरी श्वासनली के संक्रमण साथ ही कोल्ड के कारण होती है ।

पुरानी खांसी

अधिकतर लोगों को पुरानी खांसी की शिकायत ज्यादा होती है ।जो व्यक्ति इस खांसी के शिकार हो जाते हैं उन्हें कम से कम 7 से 8 सप्ताह तक रह सकती है। इसके कारण लोगों को टीवी की बीमारी की शिकायत होने लग जाती है।

खांसी के लक्ष्ण

• जिन लोगों को खांसी होती है उनकी नाक से पानी बाहर आने लगता है।

• बुखार की समस्या का सामना करना ।

• साइनस में दर्द का सामना करना।

• शरीर में कमजोरी और ठंड लगना।

• खांसते समय मुंह से बलगम आना ।

• बार-बार खांसते हुए उल्टी का समस्या का सामना करना ।

• शरीर में आलस आना साथ ही पूरे शरीर में दर्द होना।