यह नाम और यह पौधा शायद ही किसी ने नहीं देखा या सुना होगा। यह दिखने में मामूली लग सकता है लेकिन इसके अंदर कई खास गुण मौजूद हैं। जिनसे कई बीमारियां ठीक हो सकती हैं। इस पौधे को पत्थरचट्टा (Kalanchoe pinnata) के नाम से जाना जाता है। जिन बिमारियों पर आप लाखों रुपए खर्च कर देते हैं , यह उन बीमारियों के लिए एक आयुर्वेदिक औषधि है। तो आइये जानते हैं पथरचट्टा के बारे में कुछ खास बातें-

पथरचट्टा के कई नाम

आयुर्वेदा के अनुसार इस पौधे के कई नाम हैं जैसे - एयर प्लांट , कैथेड्रल बेल्स , मैजिक लीफ आदि। वही इसको आयुर्वेद की भाषा में भष्मपथरी, पणपुट्टी, पाषाणभेद के नामों से जाना जाता है और मेडिकल साइंस में bryophyllum pinnatum नाम से जाना जाता है।

खाने में कैसा

आपको बता दें , पथरचट्टा का पत्ता आम पत्तों से थोड़ा मोटा होता है , और इसका स्वाद खाने में खट्टा और नमकीन होता है।

पथरी के लिए है फायदेमंद

यदि आपको पथरी की समस्या है , तो आप इसका सेवन कर सकते हैं। आपको करना यह है पथरचट्टे पत्ते को हलके गुनगुने पानी के साथ रोज़ सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। ऐसा नियमित रूप से करने पर आपको जल्द ही लाभ मिलेगा।

पेट संबंधी समस्या को करे दूर

इसके अलावा आप रोज़ खाली पेट पथरचट्टे के 2 पत्तों के रस में सौंठ का चूर्ण मिलाकर सेवन करते हैं तो पेट दर्द में राहत मिलेगी। यह पेट से जुडी सभी परेशानियों को दूर करता है।

किडनी की समस्या को करे दूर

मूत्र विकारों (urinary disorders) जैसी परेशानी को ठीक करने के लिए पथरचट्टा काफी लाभकारी है। आयुर्वेद के अनुसार यदि आप इसके पत्तों का काढ़ा बनाकर पीते हैं तो पेशाब में जलन, पेशाब रुक - रुक के आना जैसी समस्या दूर हो जाती हैं। बवासीर जैसी परेशानी को भी ठीक करता है।