त्वचा पर कील मुंहासे होना एक आम समस्या मानी जाती है, लेकिन कई बार लोगों को शरीर के अन्य हिस्सों में भी पिंपल्स की शिकायत हो जाती है। जैसे पीठ पर दाने का दिखना। स्वास्थ्य सलाहकारों का मानना है कि बैकन एक्ने और मुंहासे दो शब्दों को मिलाकर बने हैं। जिसका सीधा अर्थ है पीठ पर पीठ पर होने वाले दानों से है। इसका मुख्य कारण त्वचा के रोमछिद्रों पर तेल और मृत त्वचा का होना है, लेकिन सही उपचार की मदद से मुंहासों की समस्या को दूर किया जा सकता है। अगर आप अपनी डाइट और लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करते हैं तो त्वचा की इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

गर्मी और गंदगी से बचने का प्रयास करें

पीठ पर मुंहासों की समस्या में आपको सीधी धूप में आने से बचना चाहिए। क्योंकि गर्मी के कारण मुंहासे ज्यादा परेशानी देते हैं। इसके साथ ही टाइट कपड़े की जगह ढीले कपड़े पहनने में आराम मिल सकता है। इसके अलावा कोशिश करें कि नहाने में सामान्य पानी का ही इस्तेमाल करें, ज्यादा गर्म पानी से नहाने से आपके पिंपल्स और ज्यादा लाल हो सकते हैं। इसके अलावा इस बात का भी ध्यान रखें कि ज्यादा देर तक पसीने से तर कपड़े पहनने से आपको परेशानी हो सकती है, इसलिए ऐसा करने से बचें।

स्किन प्रोडक्ट्स से सावधान रहें

कुछ लोगों को मुहांसों को छेड़ने या फोड़ने की आदत भी होती है,ये गंदी आदत पिंपल्स को पहले से ज्यादा दर्दनाक बना देती है इसलिए ऐसी आदतों को तुरंत छोड़ दें। यात्रा के दौरान बैकपैक से बचें क्योंकि बैग ले जाने से आपके अनाज को नुकसान हो सकता है। बेंज़ोयल पेरोक्साइड उत्पादों का उपयोग मुँहासे के उपचार के लिए किया जा सकता है, हालांकि किसी भी उत्पाद का उपयोग करने से पहले अपने त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना भी महत्वपूर्ण है। साथ ही स्किन पर ऑयली प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल को इग्नोर करें। अगर आप कोई दवा इस्तेमाल करते हैं तो उसे त्वचा पर मौजूद दानों पर कम से कम 5 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद ही इसे पानी से धो लें।