देश की राजधानी दिल्ली में भारतीय कुश्ती संघ के खिलाफ पहलवानों का बीते तीन दिनों से जारी धरना आखिरकार खेल मंत्रालय के संज्ञान पर शुक्रवार देर रात 1 बजे खत्म हो गया। दरअसल, ये फैसला पहलवानों की खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ 7 घंटे चली वार्ता के बाद लिया गया।

सरकार की तरफ से गठित समिति 4 हफ्ते में सौंपेगी मामले की जांच रिपोर्ट

जी हां, बता दें कि खेल मंत्री लगातार तीन दिनों से अपनी मांग पर डिगे रहे पहलवानों को दूसरी बैठक के बाद मनाने में सफल रहे। ओलंपियन विनेश फोगाट समेत देश के कई नामी पहलवानों के अनुग्रह पर खेल मंत्रालय ने ये यह निर्णय लिया है कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ लगाए गए आरोपों की जांच के लिए एक समिति का गठित की जाएगी। इस समिति को अगले 4 हफ्ते में अपनी जांच रिपोर्ट सौंपनी होगी। बता दें कि शनिवार को खेल मंत्रालय इस समिति के सदस्यों की घोषणा करेगा।

समिति की जांच पूरी होने तक बृजभूषण नहीं देखेंगे फेडरेशन का काम काज

वहीं केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने ये भी बताया है कि इस मामले की जांच पूरी होने तक बृजभूषण सिंह WFI का काम नहीं देखेंगे। बल्कि मंत्रालय की तरफ से गठित नवसमिति ही भारतीय कुश्ती संघ के कामकाज और हर दिन की गतिविधियों पर नजर रखेगी। वहीं समिति के तरफ से जारी किए जांच रिपोर्ट के आधार पर सरकार इस मामले पर अपना अंतिम फैसला लेगी। खेल मंत्री ने साफ किया है कि इस मामले की जांच में बृजभूषण सिंह ने सहयोग करने का पूरा आश्वासन दिया है।

वहीं WFI के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले पहलवानों का नेतृत्व कर रहे बजरंग पुनिया ने भी धरने खत्म करने की औपचारिक घोषणा करते हुए कहा है कि केंद्रीय खेल मंत्री ने हमारी समस्याओं और मांगों को सुना है और उसके आधार पर उचित जांच का आश्वासन दिया, इसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं और हमें उम्मीद है कि इसकी निष्पक्ष जांच होगी और सच सामने आएगा, इसलिए हम विरोध वापस ले रहे हैं।