वैसे क्रिकेट में कब क्या हो जाए किसी को नहीं पता। पाकिस्तान की फ्लॉप बल्लेबाजी के कारण इंग्लैंड की टीम टी-20 में दूसरी बार चैंपियन बनी है। इंग्लैंड टीम ने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में रविवार को खेले गए फाइनल में पाकिस्तान को 5 विकेट से हराकर दूसरी बार टी-20 वर्ल्ड कप का खिताब जीत लिया है। इंग्लैंड के नाम इस समय वनडे वर्ल्ड कप खिताब भी है। पहली बार किसी टीम के पास एक साथ वनडे और टी-20 दोनों का वर्ल्ड टाइटल हैं। इससे पहले टीम 2010 में भी टी-20 चैंपियन बनी थी। तब इंग्लिश टीम के कप्तान पॉल कॉलिंगवुड थे। यह ओवरऑल इंग्लैंड का तीसरा विश्व कप खिताब है। 2019 में इंग्लैंड की टीम वनडे चैंपियन भी बनी थी।

वहीं, पाकिस्तान का यह तीसरा फाइनल था। 2007 में पहले टी-20 विश्व कप में पाकिस्तान को भारत के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। वहीं, 2009 में टीम टी-20 चैंपियन बनी थी। अब 2022 में पाकिस्तान की टीम को एक बार फिर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं कि इंग्लैंड ने पाकिस्तान से 1992 वर्ल्ड कप का बदला ले लिया है। 1992 वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल में पाकिस्तान ने इसी मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर इंग्लैंड को शिकस्त दी थी। अब 30 साल बाद इंग्लैंड ने पाकिस्तान को मेलबर्न में ही हराकर बदला ले लिया है। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 20 ओवर में आठ विकेट गंवाकर 137 रन बनाए। इंग्लैंड के कप्तान जोस बटलर ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 20 ओवर में आठ विकेट गंवाकर 137 रन बनाए। इंग्लैंड ने 19वें ओवर में पांच विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि पाकिस्तान की बल्लेबाजी फ्लॉप रही।

हैरत की बात है कि उसके छह बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके। शान मसूद ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए। वहीं, कप्तान बाबर ने 32 रन की पारी खेली। इंग्लैंड की ओर से सैम करन ने सबसे ज्यादा तीन विकेट लिए। जवाब में इंग्लैंड ने 19 ओवर में पांच विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। बेन स्टोक्स ने 49 गेंदों में 52 रन बनाकर नाबाद रहे। यह टी-20 अंतरराष्ट्रीय में उनका पहला अर्धशतक रहा। पाकिस्तान की शुरुआत खराब रही और 29 पर टीम को पहला झटका लगा। हालांकि 138 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम की शुरुआत भी खराब रही। पहले ही ओवर में शाहीन अफरीदी ने इंग्लिश टीम को पहला झटका दिया। उन्होंने एलेक्स हेल्स को क्लीन बोल्ड किया। पाकिस्तान के गेंदबाजों ने बनाया दबाव बनाने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो सके। यह भी कहा जा रहा है कि शायद मैच बदल जाता, लेकिन शाहीन शाह अफरीदी के घायल हो जाने के कारण ऐसा नहीं हो सका। शादाब खान की बॉल पर हैरी ब्रूक का कैच लेने में शाहीन इंजर्ड हो गए। लॉन्ग ऑन पर कैच लेने के दौरान उनका पैर फिसल गया। वह दर्द से कराहते नजर आए। मैदान पर पाकिस्तानी ड्रेसिंग रूम से फिजियो भी आए। उन्होंने शाहीन को चेक किया। इस दौरान मैच कुछ देर रुका रहा।फिजियो ने देखा कि शाहीन ठीक से चल नहीं पा रहे हैं। इस कारण उन्हें मैदान से बाहर ले जाया गया। शाहीन इस वक्त तक मैच में 2 ओवर फेंक चुके थे। उन्होंने एलेक्स हेल्स का विकेट भी लिया था। इसके बाद अफरीदी 15वें ओवर में मैदान पर लौटे।

वहीं, इंग्लैंड ब्रुक के आउट होने के बाद दबाव में था। 16वें ओवर से मैच पलटा। इंग्लैंड के बेन स्टोक्स तीसरे ओवर से लेकर 19वें ओवर तक क्रीज पर टिके रहे। उन्होंने 49 बॉल पर 52 रन की नाबाद पारी खेली। इस पारी की बदौलत ही इंग्लैंड ने पाकिस्तान से मिले 138 रन के टारगेट को चेज कर दिखाया। स्टोक्स ने ही 2019 के वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल में इंग्लैंड को न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत दिलाई थी। तब वह फाइनल में प्लेयर ऑफ द मैच रहे थे। इस बार यह खिताब सैम करन को मिला।