संवाददाता-अजय मिस्त्री ,अहमदाबाद

अहमदाबाद नगर निगम में विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारियों की समस्याओं के निराकरण के लिए अहमदाबाद नगर निगम नोकर मंडल की ओर से आयुक्त को याचिका दी गयी थी। लेकिन 15 दिन बीत जाने के बाद भी आयुक्त की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया और नगर सेवक संघ ने अनिश्चितकालीन हड़ताल और हिंसक आंदोलन की धमकी दी है।

नगर निगम में कार्यरत हजारों कर्मचारियों के मन में पिछले 15 साल से कई सवाल हैं। जिसका समाधान प्रशासनिक व्यवस्था की ओर से नहीं लाया गया है। याचिका नगर आयुक्त को सात सितंबर को दी गई थी। लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है। ऐसे में आज अहमदाबाद के प्रतिनिधियों की बैठक होगी और 23 सितंबर को काली पट्टी और विरोध प्रदर्शन होगा और अगर उनकी मांगें नहीं मानी जाती हैं तो सफाई विभाग, फायर ब्रिगेड, एएमटीएस, सीवरेज, पानी, सड़क विभाग के कर्मचारी कार्यशाला आदि एक निश्चित अवधि के लिए हड़ताल पर रहेंगे। आने वाले दिनों में हजारों कर्मचारी नगर निगम का घेराव करेंगे और मस्टर स्टेशन पर भी विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मैला ढोने वाले आज भी अपने हाथों और सिर से मेलू को उठाते हैं। और यह प्रथा पूरे देश में बंद है।

वर्ष 2013 में यह कार्य न करने पर कानून भी लागू है। इसलिए यह काम करने वाले अधिकारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएवऔर इस ऑपरेशन को बंद करो। स्थायी सफाईकर्मी चिकित्सकीय रूप से अनुपयुक्त होते हैं और दुर्घटनावश उनकी मृत्यु हो जाती है। ऐसे में विवाहित बेटियों को वारिस की नौकरी का लाभ देना। भोपाल घुमा नगर पालिका को अहमदाबाद नगर निगम में शामिल किया गया है, तो वहां के सफाईकर्मियों को संस्था के अनुसार अहमदाबाद नगर निगम के वित्तीय नियमों को लागू कर लाभ देना है। निगम में स्वच्छता उप निरीक्षकों के रिक्त पदों पर स्थायी समिति के संकल्प को लागू कर खाते से 100 व 25 प्रतिशत सफाई कर्मियों में से स्वच्छता उपनिरीक्षकों की भर्ती करना।

* अहमदाबाद नगर न्यायालयों में कई वर्षों से रिक्तियों को तत्काल भरें।

*बोपल घुमा नगर पालिका में एएमसी में कार्यरत 119 सफाई कर्मचारियों को रखा गया है। उन्हें उनके मूल स्थान पर स्थानांतरित करना। *एएमसी के स्टाफ क्वार्टरों में सफाईकर्मियों के घरों का पुनर्विकास या नए भवनों का प्रावधान। एएमसी में 7 जोनों के मस्टर स्टेशनों में "सी" रजिस्टर क्लीनर की भर्ती स्वास्थ्य मस्टर स्टेशनों पर सैनिटरी श्रमिकों के रूप में काम करने वाले अंशकालिक और पूर्णकालिक सफाईकर्मी जो पहले कर्तव्यों का पालन कर चुके हैं लेकिन अप्रत्याशित कारणों से ड्यूटी के लिए रिपोर्ट नहीं कर सके। के परिवार मैला ढोने वाले जो मर जाते हैं या ड्यूटी के लिए रिपोर्ट करने के लिए अयोग्य हो जाते हैं उन्हें विरासत में मिली नौकरी दी जाती है। लेकिन शुल्क भुगतान की अवधि के दौरान उसके वारिस की आकस्मिक मृत्यु होने पर उसके परिवार को वारिस की नौकरी दी जानी चाहिए।

* सूरत नगर निगम जैसे अहमदाबाद नगर निगम के सभी विभागीय कर्मचारियों के वेतनमान में संशोधन।

* निगम के विभिन्न विभागों में कार्यरत अधिकारी जो एक ही स्थान पर तीन वर्ष से अधिक समय से कार्य कर रहे हैं, उनका स्थानान्तरण नीतिगत नियमानुसार अंचल स्तर पर नगर निगम में किया जाये।

* ए.एम.टी.एस. 2006 से, ड्राइवर कंडक्टर के रूप में कर्तव्यों का पालन कर रहा था। उनकी मृत्यु के बाद, उनके परिवार को उत्तराधिकारी रहमराह ने आश्रित के रूप में नौकरी दी थी। अत: उनकी निर्धारित वेतन अवधि पूर्ण होने पर अहमदाबाद नगर निगम के वित्तीय नियमों के अनुसार स्थायी किया जाए।

* अहमदाबाद नगर निगम में कार्यरत कक्षा 1 से 4 तक के कर्मचारियों के लिए नई पेंशन योजना को बंद कर पुरानी पेंशन योजना शुरू करना और इसे तत्काल आधार पर लागू करना।