मध्य प्रदेश के धर्म धानी उज्जैन में वसंत पंचमी पर गुरुवार 26 जनवरी को वासंती उल्लास छाया। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में तड़के 4:00 बजे भस्म आरती में भगवान महाकाल को पुजारियों ने सरसों के पीले फूल के रूप में वसंत अर्पित कर गुलाल भी चढ़ाया।

आज गणतंत्र दिवस है, इसलिए तिरंगे के रंग भी भगवान महाकाल के श्रृंगार में शामिल किए गए है। बता दें कि भगवान श्री कृष्ण की शिक्षा स्थली सांदीपनि आश्रम में बच्चों का विद्यारंभ संस्कार कराया गया। अबूझ मुहूर्त में शहर में अनेक स्थानों पर सामूहिक विवाह के आयोजन भी हो रहे हैं।

वहीं भगवान महाकाल के पुजारी ने बताया कि भगवान महाकाल उज्जैन के राजा हैं, इसलिए सबसे पहले मंदिर में त्योहार मनाए जाते हैं। बसंत पंचमी का पर्व भी तड़के 4:00 बजे भस्म आरती में मनाया गया। भगवान महाकाल को केसर युक्त जल से स्नान कराया गया।

इसके पश्चात सरसों के पीले फूल के रूप में वसंत अर्पित किया गया। साथ ही भगवान महाकाल को केसरिया पकवानों का भोग लगाकर आरती की गई। भगवान श्री कृष्ण की शिक्षा स्थली सांदीपनि आश्रम में वसंत पंचमी पर बच्चों का पाटी पूजन के साथ विद्यारंभ संस्कार हुआ।

फाग उत्सव की हुई शुरुआत -

बता दें कि शहर के पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिरों में बसंत पंचमी से 40 दिवसीय फाग उत्सव की शुरुआत हुई। अब प्रतिदिन राजभोग आरती में ठाकुर जी को गुलाल अर्पित किया जाएगा। भक्त भी अबीर गुलाल से होली खेलकर ठाकुर जी के रंग में रंगेंगे।