उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में जिला प्रशासन भाजपा किसान मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष अवधेश पांडे का काकस तोड़ने में जुट गया है। क्षेत्र में आतंक का पर्याय बने अवधेश के विरुद्ध स्थानीय पुलिस की रिपोर्ट पर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व (ADM-FR) ने जिला बदर की कार्रवाई की है। जिसे अपराधियों के खेमे में हड़कंप मच गया है। गौरतलब रहे कि अवधेश के विरुद्ध गोसाईगंज थाने में हत्या के प्रयास, मारपीट, बलवा और गुंडा एक्ट समेत आठ मामले दर्ज हैं।
 
आपको बता दें कि. गोसाईंगंज क्षेत्र के पांडेयपुर सुरौली गांव निवासी अवधेश पांडे का क्षेत्र में फैल चुका था। स्थानीय लोगो का जीना दूभर हो गया था। उसके खिलाफ पूर्व में गुंडा एक्ट की कार्रवाई भी पुलिस द्वारा की गई है। लेकिन वो अपनी हरकत से बाज नहीं आया। यही नहीं उसने भाजपा में शामिल होकर क्षेत्र में हनक बनाना शुरू किया था। विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण उसे पार्टी से निकाल दिया गया। लेकिन चुनाव बाद वो स्थानीय विधायक का करीबी बनकर भाजपा किसान मोर्चा में इंट्री कर गया।
 
इधर गोसाईंगंज थाना प्रभारी ने जिला प्रशासन को अवधेश के खिलाफ रिपोर्ट भेजी थी। जिला प्रशासन ने अवधेश पांडे को गुंडा नियंत्रण अधिनियम के तहत नोटिस दी। अपर जिला मजिस्ट्रेट मनोज कुमार पांडेय ने बताया कि अवधेश पांडे को आपराधिक गतिविधियों में लिप्त होने के चलते 6 माह के लिए जिला बदर किया गया है। इस अवधि के भीतर वो जिले की सीमा में प्रवेश नहीं करेगा। उसे अपने निवास की जानकारी संबंधित थाने में देना होगा और 50 हजार रुपये का मुचलका भी थाने में जमा करना होगा।