छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर इस वर्ष के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले एक बड़ी घोषणा की है जिसमें उन्होंने घोषणा की है कि राज्य में बेरोज़गार युवाओं को मासिक बेरोज़गारी भत्ता दिया जाएगा। वर्ष 2018 के चुनाव से पहले कांग्रेस ने बेरोज़गारी भत्ता देने का वादा किया था।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कुटीर उद्योग आधारित ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मज़बूत करने के लिए राज्य में ग्रामीण उद्योग नीति बनाने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि उद्योग विभाग द्वारा विकसित औद्योगिक क्षेत्रों में स्थित कारखानों को संपत्ति कर से छूट दी जाएगी। उन्होंने कई अन्य घोषणाएं भी की, जिसमें रायपुर हवाईअड्डे के पास ऐरोसिटी की स्थापना, मज़दूरों के लिए आवास सहायता योजना और महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं शामिल हैं। उन्होंने बताया की छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य निर्माण बोर्ड में पंजीकृत श्रमिकों को तीन वर्ष की अवधि के लिए आवास निर्माण के लिए 50 हज़ार रूपये का अनुदान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले की सीमा से सटे रायपुर के बाहरी इलाके में बहने वाली खारुन नदी के किनारे एक रिवर फ्रंट विकसित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि राज्य में रामायण और मानस मंडली महोत्सव का आयोजन किया जाएगा और मां कौशल्या महोत्सव चंदखुरी में आयोजित किया जाएगा, जहां माता कौशल्या मंदिर स्थित है। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि राज्य सरकार आदिवासी संस्कृति और त्योहारों को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष से राज्य के आदिवासी बहुल बस्तर और सरगुजा संभागों और अनुसूचित क्षेत्रों में आदिवासी समुदायों के त्योहारों के आयोजन के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत को हर साल 10,000 रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी।