बिलासपुर, छत्तीसगढ़। ट्रेनों की लेट-लतीफी को लेकर यात्रियों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। सोमवार को भी ट्रेनों की लेट-लतीफी जारी रही। सुबह नौ बजे बिलासपुर पहुंचने वाली योग नगरी ऋषिकेश-पुरी उत्कल एक्सप्रेस करीब 14 घंटे देरी से चल रही है। यह ट्रेन रात 12 बजे के बाद बिलासपुर पहुंचेगी।

इसी तरह शालीमार से उदयपुर जाने वाली ट्रेन आठ घंटे विलंब है। इस ट्रेन का बिलासपुर पहुंचने का समय सुबह सात बजे हैं। वहीं इतवारी से बिलासपुर आने वाली इंटरसिटी और शिवनाथ एक्सप्रेस भी चार- चार घंटे देरी से पहुंची।

पूछताछ केंद्र में नाराजगी -

बता दें कि सबसे ज्यादा उत्कल एक्सप्रेस के यात्री परेशान हो रहे हैं। दरअसल, यह ट्रेन सुबह नौ बजे बिलासपुर पहुंच जाती है। अधिकांश यात्री इसी समय को ध्यान में रखकर जोनल स्टेशन पहुंच गए। यहां आकर जब उन्हें पता चला कि ट्रेन रात 12 बजे के बाद पहुंचेगी, तो वह बेहद निराश हुए।

हालांकि अधिकांश यात्री पुरी दर्शन करने जा रहे हैं। लेकिन कई ऐसे यात्री भी हैं, जिन्हें पुरी के अलावा पहले के कई शहरों में जाना है। ऐसे यात्री स्टेशन मास्टर से लेकर पूछताछ केंद्र में नाराजगी भी जाहिर करते हुए नजर आए।

यात्री हुए परेशान -

यात्रियों का कहना था कि अब तो कोहरे का भी असर कम हो गया है। बावजूद इसके ट्रेन विलंब करने के पीछे क्या वजह है। कर्मचारियों के पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं था। इसी तरह शालीमार-उदयपुर एक्सप्रेस के यात्री भी परेशान नजर आए। सुबह नौ बजे पहुंचने वाली हावड़ा-पुणे आजाद हिंद एक्सप्रेस भी सुबह 11:40 बजे पहुंची। करीब पांच महीने से यह ट्रेन इसी तरह देर से पहुंच रही है।

परिचालन प्रभावित -

सबसे बड़ी विड़ंबना यह भी है कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे अपने ही जोन में अपनी ट्रेनों को समय पर नहीं चला पा रहा है। शिवनाथ एक्सप्रेस और इतवारी-बिलासपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस ऐसी ट्रेन है, जो जोन की है। जहां एक ट्रेन 3:30 घंटे तो वहीं दूसरी ट्रेन चार घंटे लेट है। बिलासपुर रेल मंडल का कहना है कि यहां से ट्रेन समय पर रवाना हो जाती है। लेकिन वापसी में किस जगह पर परिचालन प्रभावित हो रहा है यह दूसरा रेल मंडल ही जवाब दे सकता है।