रिपोर्ट। मुस्कान

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पार्षदों के बीच हुई मारपीट के लगभग तीन सप्ताह बाद मंगलवार को दिल्ली नगर निगम मुख्यालय में एमसीडी मेयर का चुनाव होने जा रहा है। सोमवार को एमसीडी के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सदन दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के मुख्यालय सिविक सेंटर में सुबह 11 बजे से शुरू होगा। एल्डरमैन और नवनिर्वाचित पार्षदों को सदन में शपथ दिलाई जाएगी जिसके बाद मेयर का चुनाव शुरू होगा।

पिछले सप्ताह उपराज्यपाल (एलजी) वीके सक्सेना द्वारा दी गई मंजूरी के अनुसार सदन बुलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पहले मेयर का चुनाव होगा। उसके बाद डिप्टी मेयर और स्थायी समिति के छह सदस्यों का चुनाव होगा। सूत्रों ने बताया कि मेयर और अन्य चुनावों के नतीजे वोट डाले जाने के तुरंत बाद पीठासीन अधिकारी घोषित करेंगे। सदन की अध्यक्षता बीजेपी के पार्षद सत्य शर्मा ही करेंगे, जिन्हें एलजी ने पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया है।

सत्य शर्मा ने छह जनवरी को एमसीडी हाउस की भी अध्यक्षता की थी, जो शुरू होने के तुरंत बाद अराजकता में बदल गया था। क्योंकि आप सदस्यों ने 10 मनोनीत सदस्यों को पहले शपथ दिलाने के उनके फैसले का विरोध किया था, जिन्हें एल्डरमैन कहा जाता था। इस दौरान आम आदमी पार्टी ने दावा किया कि ऐसा एल्डरमेन को मेयर चुनावों में वोट देने और बीजेपी का पक्ष लेने की अनुमति देने के लिए किया गया था, जबकि भाजपा और एलजी दोनों ने ही आरोप से इनकार किया है। निश्चित रूप से दिल्ली नगर निगम अधिनियम 1957 के अनुसार एल्डरमैन के पास सदन में मतदान का अधिकार नहीं है। बता दें कि एमसीडी में पिछले 8 महीने से मेयर नहीं है।

महापौर की अनुपस्थिति को रेखांकित करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि प्रक्रिया में और देरी करना उचित नहीं होगा। मनीष सिसोदिया ने गणतंत्र दिवस से पहले सदन की बैठक आयोजित करने के लिए एलजी को चार संभावित तारीखों 18, 20, 21 या फिर 24 जनवरी का प्रस्ताव दिया था। 250 सदस्यीय मजबूत सदन में 134 आप पार्षद, 105 भाजपा पार्षद, 9 कांग्रेस पार्षद और दो निर्दलीय हैं।

मेयर चुनाव के लिए निर्वाचक मंडल में 250 निर्वाचित पार्षद, लोकसभा के सात सदस्य, राज्यसभा के तीन सदस्य और दिल्ली विधानसभा के 1/5 सदस्य (14 विधायक) शामिल होते हैं, जिन्हें अध्यक्ष द्वारा हर साल बारी-बारी से नामित किया जाता है। दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष ने शुक्रवार को आप के 13 और भाजपा के एक विधायक को एमसीडी में प्रतिनिधित्व के लिए नामित किया।