संवाददाता: प्रशांत गोस्वामी,राजकोट

राजकोट। नवरात्रि के त्योहार में कुछ ही दिन बाकी में है। ऐसे में राजकोट में माताजी का गरबा बनाने वाले कारीगर पिछले 4 महीनों से दिन-रात गरबा कर रहे हैं। फिर इस साल नवरात्रि में धार्मिक भक्ति के साथ-साथ राष्ट्रीय भक्ति भी देखने को मिलेगी। क्योंकि इस साल गरबा को तिरंगे से रंगा गया है।

राजकोट में गरबा बनाने वाले भी इस साल कुछ अलग ही उत्साह दिखा रहे हैं। क्योंकि कोरोना की वजह से दो साल से ठप्प पड़ी इंडस्ट्री फिर से फलफूलने लगी है। इस साल गरबा करने वालों को अच्छी आमदनी की उम्मीद है।

अनुमान है कि इस साल 8 से 9 हजार गरबा की बिक्री होगी। कीमत की बात करें तो पिछले साल की तुलना में इस साल एक गरबा की कीमत में 4 से 5 रुपए का इजाफा हुआ है। इस साल लोग बिना किसी चिंता के नवरात्रि मनाएंगे। इसलिए इस साल गरबा उद्योग को भी बढ़ावा मिलेगा।

गौरतलब है कि पिछले दो साल से केवल प्राचीन गरबी को ही सरकार ने अनुमति दी थी। जबकि इस साल सरकार ने अर्वाचिन गरबा को भी रियायत दी है। इसलिए दो साल से गरबा खेल रहे खिलाड़ियों में उत्साह का माहौल है। 2 महीने से खिलाड़ी अलग-अलग स्टेप सीख रहे हैं और नवरात्रि में डांस करने की तैयारी कर रहे हैं।