संवाददाता- विशाल पटेल,गांधीनगर

गुजरात के अन्य राज्यों की तरह शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की लंबित मांग को लेकर सत्याग्रह शिविर में बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। इसके अलावा एलआरडी उम्मीदवार भी विरोध में उतर आए। इस बीच, आंदोलनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई, जिसमें पुलिस ने 60 से अधिक आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया।

गांधीनगर में पुलिस परिवारों ने लंबित मांगों को लेकर आंदोलन शुरू कर दिया है। पुलिस परिवार पुलिस परिवारों को क्लास-3 और क्लास-4 में नौकरी देने की मांग कर रहे हैं। पुलिस परिवार की मांग है कि तुरंत काम शुरू किया जाए। इसके अलावा 5-7-2011 का संकल्प रद्द किया जाए। 1985 से 2017 तक गुजरात पुलिस में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के परिवारों को न्याय दिया जाना चाहिए। पिछले कई दिनों से पुलिस के परिजन धरना दे रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि बकाया मांगों का जल्द से जल्द समाधान किया जाए।

हालांकि सरकार ने अभी तक पुलिस परिवारों को सीधे तौर पर न्याय नहीं दिया है, लेकिन बड़ी संख्या में पुलिस परिवार आज विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे, साथ ही एलआरडी उम्मीदवार भी विरोध करने के लिए सत्याग्रह शिविर में एकत्र हुए। पुलिस ने आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प भी हुई।

आंदोलनकारियों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनका दमन किया। इस संबंध में सेक्टर-7 पीआई पी.बी.चौहान ने कहा कि विधानसभा का सत्र चल रहा है। पुलिस परिवार व एलआरडी प्रत्याशी बकाया मांगों को लेकर धरने पर उतर आए। 60 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया है, जबकि पुलिस पर लगे आरोप झूठे हैं।