रिपोर्ट- मोनू राठौर (ग्वालियर, मध्यप्रदेश)

मध्यप्रदेश। मामला मध्यप्रदेश के ग्वालियर से है जहां इंदरगंज थाने से महज 300 मीटर की दूरी पर सोमवार को दिनदहाड़े दो हथियारबंद बदमाशों ने 1.20 करोड़ रुपए की लूट की वारदात को अंजाम देकर सनसनी फैला दी। पु‍लिस ने युद्ध स्‍तर पर अभियान चलाकर लूट का खुलासा कर आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। इस बारे में जल्‍द ही पुलिस मीडया को विस्‍तृत जानकारी देगी।

गौरतलब है कि लुटेरों ने पैकेजिंग मटेरियल सप्लाई करने वाली कंपनी के ड्राइवर और मुनीम को लूटा था। कार ड्राइवर चला रहा था, और मुनीम ड्राइविंग सीट के बगल वाली सीट पर बैठा था। बदमाश पहले से ही इनके इंतजार में मुंह पर कपड़ा बांधकर खड़े हुए थे।

जैसे ही कार जयेंद्रगंज स्थित राजीव प्लाजा की बगल वाली गली में पहुंची, तो एक लुटेरे ने हाथ देकर कार रुकवाई और कट्टा ताना, लुटेरे ने कार की डिक्की खुलवाई और पीछे से उसका साथी आया, जो डिक्की में रुपयों से भरा कार्टून लेकर भाग निकला। संकरी गली में से पैदल ही यह बदमाश भागे थे, जो छप्परवाला पुल की तरफ जाती है।

लूट की वारदात को जिस तरह से अंजाम दिया गया, उससे यह तो स्पष्ट था कि लुटेरों को पहले से पता था कि यह दोनों इतनी मोटी रकम लेकर जा रहे हैं। आपको बता दें ग्वालियर में जयेंद्रगंज इलाके में दो बदमाशों ने हथियारों के दम पर दिन-दहाड़े एक निजी कंपनी की कैशवेन को लूट लिया और 1 करोड़ 20 लाख रुपए लेकर चंपत हो गए। निजी कंपनी व्यापारियों से कैश लेकर उसे बैंक में जमा करवाती थी।

मिली जानकारी के अनुसार दीनदयाल नगर में रहने वाले मेहताब सिंह गुर्जर मालनपुर के पूर्व सरपंच रह चुके हैं। वो वर्तमान में मंडी अध्यक्ष हैं और हरेंद्र ट्रेडिंग कंपनी के नाम से पैकेजिंग मटेरियल कंपनी खोल रखी है। जिसमें उनका पार्टनर बालकिशन साहू है। इनकी कंपनी में मुनीम का काम करने वाले सुनील शर्मा सोमवार सुबह मेहताब के घर पहुंचे। यहां से सुनील ने 1.50 करोड़ रुपए लिए।

जिन्हें बैंक आफ बड़ौदा की जयेंद्रगंज स्थित ब्रांच में यह रुपया जमा करना था। सुनील ड्राइवर प्रमोद गुर्जर के साथ कार से बैंक के लिए रवाना हुए। अभी यह लोग छप्परवाला पुल होते हुए जिंसी नाला रोड से राजीव प्लाजा की पार्किंग वाले रास्ते पर मुड़े ही थे कि यहां से करीब 150 मीटर आगे चलने पर, एक नकाबपोश बदमाश कार के सामने आ गया।

जैसे ही कार रुकी तो उसने कार के कांच पर हाथ मारकर कांच खुलवाया ये लोग कुछ समझ पाते उससे पहले ही उसने कट्टा तान दिया। तब तक उसका दूसरा साथी भी पीछे से आ गया। गोली मारने की धमकी देकर पहले बदमाश ने डिक्की खुलवाई और पीछे से आया दूसरा बदमाश रुपयों से भरा कार्टून लेकर भाग गया।

सुनील और प्रमोद लूट की वारदात होने के बाद सीधे बैंक पहुंचे, यहां पर एक कर्मचारी से मोबाइल मांगकर मेहताब सिंह को फोन किया और लूट की जानकारी दी। मेहताब सिंह ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। लुटेरे 1.50 करोड़ रुपए में से 1.20 करोड़ रुपए ही अपने साथ ले गए, क्योंकि 30 लाख रुपए इन लोगों ने पिठ्ठू बैग में अपने पास रख लिए थे। लूट की वारदात को अंजाम देते हुए बदमाश सीसीटीवी कैमरे में भी नजर आए हैं।