जौनपुर। उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के थाना सरायख्वाजा पर तैनात दरोगा बलकरन यादव द्वारा मुकदमा दर्ज करने और विवेचना में मदद करने का ठेका लेकर घूस मांगने के आरोप में पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी ने दरोगा को निलंबित करते हुए लाइन हाजिर कर दिया है। 

आपको बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में मुकदमा वादिनी अलीमुन निशा पत्नी शौकत अली ने 156(3) के तहत कोर्ट से मुकदमा दर्ज कराने का आदेश कराया था। थाने में कोर्ट के आदेश से मुअसं 222/22 से धारा 419, 420, 406, 468 भादवि के तहत दर्ज हुआ विवेचना एस आई बलकरन यादव को मिली थी। इस प्रकरण में एस आई द्वारा मुकदमा वादिनी के पुत्र सरफराज से मुकदमा पंजीकृत कराने से लेकर विवेचना में मदद करने का ठेका लेते हुए पैसे के लेन देन की बात की गयी थी।

वायरल वीडियो के सत्यता की जांच सीओ सदर द्वारा करायी गयी वायरल वीडियो सही पाये जाने पर सीओ की रिपोर्ट के बाद एसपी जौनपुर ने दरोगा बलकरन यादव को निलंबित करते हुए लाइन हाजिर कर दिया और आगे भी मामले की जांच जारी है साथ ही विवेचना दूसरे दरोगा को दे दी गयी है।

वायरल वीडियो में उपनिरीक्षक द्वारा मुकदमा पंजीकृत स्वयं कराने की बात की गई। जांच में पाया गया कि माननीय न्यायालय के आदेश से  मुकदमा पंजीकृत हुआ है। एवं भष्टाचार संबंधित अन्य बातचीत की गयी है इन आरोपो के क्रम मे तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए पुलिस लाइन स्थानान्तरित कर दिया गया है। जांच संस्तुति कर दी गयी है विवेचना अन्य उपनिरीक्षक को आवन्टित कर दी गयी है।