संबाददाता: दिलीप वानी (अलीराजपुर, मध्यप्रदेश)

अलीराजपुर: मध्य प्रदेश सरकार के विकास के दावों की पोल खोलती ये वाइरल तस्वीर देखिए। जहां मरने के बाद लाश को कांधो पर उठा कर चार किलोमीटर पैदल लेकर जाना पडता है। सरकार ग्रामीण क्षेत्र मे विकास के बड़े-बड़े दावे करती है, मगर जमीनी हकीकत कुछ और बयां कर रही है।

दरअसल मामला आदिवासी बाहुल्य जिले अलीराजपुर जिले के सोरवा थानांतर्गत गोवलदगड़ा गांव का है। जहां एक व्यक्ति ने किसी कारण फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली थी, जिसके बाद पीएम करवाने के लिए जिला अस्पताल ले जाने के लिए 4 किलोमीटर दूर तक खाट में डाल कर सोरवा अलीराजपुर मार्ग पर लाया गया।

इसके बाद जिला अस्पताल पहुंचाया गया। गोवालदगड़ा में लगभग 600 लोग निवास करते हैं, किसी भी मरीज के लिए 108 पर डायल करके एंबुलेंस गाड़ी बुलाते हैं तो मरीज को 4 किलोमीटर दूर तक मेन रोड पर लाना पड़ता है। तब जाकर जिला अस्पताल इलाज के लिए ले जाया जाता है।