घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से है, जहां के रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर कार्यरत एक वेंडर पटरी क्रॉस करने के दौरान ट्रेन की चपेट में आ गया। ट्रेन वेंडर के ऊपर से गुजर गई और इस हादसे में उसके दोनों पैर घुटने से अलग हो गए।

हादसे को होते देख तुरंत आरपीएफ और जीआरपी के जवान घटनास्‍थल की तरफ दौड़े और वेंडर को लहूलुहान अवस्‍था में उठाकर अस्‍पताल भिजवाने का इंतजाम किया। वहीं समय पर इलाज मिलने की वजह से वेंडर की जान बच गई।

बता दें कि घटना गुरुवार-शुक्रवार रात करीब एक बजे की है, जो खाली ट्रेन को एक पटरी से दूसरी पटरी पर ले जाते समय प्लेटफार्म नंबर चार से पांच के बीच की हुई। वहीं वेंडर का उपचार हमीदिया अस्पताल में चल रहा है।

बताया जा रहा है कि वेंडर का नाम राजेश चौरसिया है, जो रानी कमलापति स्टेशन पर संचालित प्रेम एजेंसी के स्टॉल पर कार्य करता था। वहीं परिजनों ने इस मामले में संबंधित एजेंसी के जिम्मेदारों पर मदद नहीं करने का आरोप लगाया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार वेंडर रात में प्लेटफार्म से उतरकर शौच के लिए जा रहा था। इसी दौरान खाली ट्रेनों को एक पटरी से दूसरी पटरी पर शिफ्ट किया जा रहा था। पटरी पर मामूली अंधेरा था, इसी बीच वेंडर एक ट्रेन की चपेट में आ गया, जिसकी वजह से उसे अपने दोनों पैर गंवाने पड़े हैं।

घटना के तुरंत बाद ड्यूटी पर तैनात आरपीएफ और जीआरपी के जवानों ने उसकी मदद की और उसे तुरंत जेपी अस्पताल पहुंचाया, जहां उसकी नाजुक स्‍थिति को देखते हुए उसे हमीदिया अस्पताल रेफर कर दिया गया। समय पर इलाज मिलने से उसकी जान बच गई है।