आम आदमी पार्टी (आप) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) में मनोनीत पार्षदों के शपथ लेकर टकराव देखने को मिला है। आप के भारी विरोध के बावजूद पहले मनोनीत पार्षदों ने शपथ ग्रहण की है। आप का कहना है कि चुनाव जीतकर आए पार्षदों को पहले के शपथ दिलाई जाए बाद में मनोनीत पार्षद को शपथ ग्रहण कराई जाए। वहीं अच्छी बात यह है कि करीब आठ महीने बाद आज एमसीडी को अपना नया मेयर मिलने वाला है।

मंगलवार को एमसीडी सदन की दूसरी बैठक कार्यवाही शांतिपूर्ण चल रही है। हालांकि आप ने पहले मनोनीत पार्षदों के शपथ दिलाए जाने का विरोध किया। एमसीडी की बैठक में सबसे पहले मनोनीत पार्षदों को शपथ दिलाई गई। इसके बाद नवनिर्वाचित पार्षदों को शपथ दिलाई जाएगी। आखिर में एमसीडी मेयर और डिप्टी मेयर व स्टैंडिंग काउंसिल के सदस्यों का चुनाव होगा।

नवनिर्वाचित पार्षदों का शपथ ग्रहण शुरू

आप के विरोध के बाद पहले मनोनीत पार्षदों को शपथ दिलाई गई। मनोनीत पार्षद में सबसे पहले विनोद ने शपथ ली। इसके बाद लक्ष्मण, मुकेश मान, सुनील चौहान, राजकुमार भाटिया, संजय त्यागी शपथ ली। इसके बाद वार्ड से चुनाव जीतकर आए नवनिर्वाचित पार्षदों का शपथ ग्रहण शुरू हुआ। इस बीच मनोज कुमार जैन, रोहताश कुमार, श्वेता कमल खत्री पार्षदों और अन्य पार्षदों ने शपथ शपथ ग्रहण की। इसके अलावा पूर्ववर्ती उत्तरी निगम के मेयर रहे और दूसरी बार चुनाव जीतकर आए राजा इकबाल सिंह ने शपथ ग्रहण की।

फिलहाल सदन की कार्यवाही शांतिपूर्ण तरीके से चल रही है। वहीं आम आदमी पार्टी मुकेश गोयल ने कहा कि संवैधानिक तरीका यह है कि सबसे पहले पहले चुनाव जीतकर आए पार्षदों को शपथ दिलाई जाए। इसके बाद बाकी के मनोनीत पार्षदों का शपथ ग्रहण होना चाहिए। बता दें कि करीब आठ महीने बाद मंगलवार को एमसीडी को अपना नया मेयर और डिप्टी मेयर मिलने वाला है।