इंसान की किस्मत कब पलट जाए कोई नहीं कह सकता, ऊपर वाले की मेहरबानी हो तो व्यक्ति एक झटके में फर्श से अर्श पर पहुंच जाता है और जब किस्मत नाराज हो तो वही अर्श से फर्श और आ जाता है। किस्मत का कुछ ऐसा ही खेल पंजाब के डेरा बस्सी के एक बुजुर्ग के साथ कुछ ऐसा हुआ है। दरअसल, करीब 40साल से लॉटरी खरीद रहे बुजुर्ग की किस्मत अब ऐसे पलटी कि उन्हें पांच करोड़ रुपए का बंपर इनाम एक झटके में मिला है।

जी हां, बता दें कि , 88साल के महंत द्वारका दास ने पांच करोड़ रुपये की लॉटरी जीती है... बुजुर्ग द्वारका दास गांव के एक मंदिर में महंत हैं। गौरतलब है कि मकर संक्रांति के मौके पर हर साल पंजाब सरकार बंपर लॉटरी का आयोजन करती है। इसी लॉटरी को खरीदकर द्वारका दास और उनका परिवार रातोंरात करोड़पति बन गया।कुछ दिन पहले उन्होंने जीरकपुर से लोहड़ी बंपर टिकट खरीदा था और जब विजेता की घोषणा हुई तो एक पल में ही द्वारका दास की किस्मत बदल गई।ऐसे में गरीब महंत की पांच करोड़ की लॉटरी निकलने से परिवार और गांव में खुशी का माहौल है।

पांच करोड़ की लॉटरी निकलने पर सवाल ये उठा कि द्वारका दास इतनी बड़ी रकम का क्या करेंगे। तो इसके जवाब उन्होंने कुछ ऐसा दिया कि आपको भी समझ में आ जाएगा कि एक बुजुर्ग की नजर में पैसों की कीमत क्या है?द्वारका दास का कहना है कि लॉटरी में जीते रकम को तीन हिस्सा करके दो हिस्से को अपने दोनों बेटों में बांट दूंगाऔर एक हिस्सा डेरा मंदिर में लगाए जाएंगे। द्वारका दास के मुताबिक पैसे आने या जाने का उन्हें ना तो खुशी होती है और ना ही गम। उनका कहना है कि उन्होंने सारी जिंदगी मेहनत करके ही अपने परिवार का पालन-पोषण किया है। अब, पांच करोड़ की लॉटरी निकलने पर बहुत ज्यादा खुशी नहीं है।

वहीं द्वारका दास के पुत्र नरेंद्र कुमार का भी कहना है कि भगवान ने उनकी सुनी है... अब, पिताजी जो फैसला करेंगे उसे हम सब मानेंगे, इतना जरूर है कि घर में खुशी का माहौल है।दूसरी तरफ लॉटरी विक्रेता लोकेश कुमार ने भी द्वारका दास की पांच करोड़ की लॉटरी निकलने पर खुशी जताई, उन्होंने बताया कि जल्द ही रुपए लॉटरी विजेता को मिल जाएंगे।