छत्तीसगढ़: 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राज्यपाल अनुसुईया उइके राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड में और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर जिला मुख्यालय जगदलपुर में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इसके बाद सीएम बघेल खुली जीप में सवार होकर परेड का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को हलबी और छत्तीसगढ़ी में संबोधित किया।

मुख्यमंत्री ने कहा, हमर भारत के सबले बड़े तिहार, गणतंत्र दिवस के बेरा म हमर सियान मन ल, दाई-दीदी मन ल, भाई-बहिनी- संगवारी अउ नोनी-बाबू मन ल जय जोहार। आज हमर संविधान के जय-जयकार करे के दिन हवय। आज जम्मो रहवइया मन, जम्मो मनखे मन के घलोक जय-जयकार करे के दिन हे। काबर के गणतंत्र के बिचार म जम्मो मनखे के अधिकार समाय हवय।

इही हमर संविधान के खूबसूरती हे जेखर बर हमर पुरखा मन सहादत दीन अउ अंगरेज मन ल खदेड़ के हमन ल आजादी दिलाइस। ओखर पाछू अइसन संविधान बनाइन जेला खुद ‘हम भारत के लोग’ मन ह, खुद ल अरपित करे हन। याने के हर मनखे के संविधान हे जेखर सेती मतदाता मन के वोट ले सरकार बनथे। अइसन संविधान अउ लोकतंत्र ल बचाय के जिम्मेवारी अब हमर अउ अवइया पीढ़ी के हवय।

बता दें कि राज्यपाल अनुसुईया उइके ने 74वें गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर आज सुबह राजभवन में ध्वजारोहण किया। उन्होंने परेड का निरीक्षण कर सलामी ली। राज्यपाल ने इस अवसर पर राजभवन के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों, उनके परिजनों तथा बच्चों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी। राज्यपाल ने बच्चों को चाकलेट भी बांटे।

समारोह में राज्यपाल के सचिव अमृत कुमार खलखो, राज्यपाल के उपसचिव दीपक अग्रवाल, राज्यपाल के विधिक सलाहकार राजेश श्रीवास्तव, एडीसी द्वय विवेक शुक्ला तथा मेजर सिद्धार्थ सिंह सहित राजभवन सचिवालय के अधिकारी एवं कर्मचारी तथा उनके परिवार के सदस्यगण उपस्थित थे।

 

राजभवन में आयोजित परेड का नेतृत्व परेड कमांडर सौरभ उइके ने किया। धमतरी जिला मुख्यालय के एकलव्य खेल मैदान में धरसींवा विधायक अनीता शर्मा ने 74 वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर ध्वज फहराया। इसके बाद परेड, सलामी के साथ मुख्यमंत्री का संदेश वाचन किया।