संवाददाता : प्रमोद मल्ल( तिनसुकिया, असम)

न्यू तिनसुकिया रेलवे स्टेशन पर हर दिन दिल्ली, कोलकाता और गुजरात से सैकड़ों बोरी कपड़े ट्रेन से पहुंचते हैं। आरोपों के मुताबिक इन कपड़ों में कोई जीएसटी दस्तावेज नहीं होता है। सैकड़ों लाख रुपये के सरकारी करों की चोरी करके उन्हें कपड़ों की बोरियों में तस्करी कर लाया जाता है। देश में कई अवैध व्यापारी हैं।

इन अवैध डीलरों ने शहर के कुछ इलाकों में माकुम रोड, मानव कल्याण रोड, जीएनबी रोड समेत कई इलाकों में फर्जी नाम से बिना दस्तावेज के ट्रांसपोर्ट कंपनियां खोल रखी हैं! परिवहन कंपनी के तत्वावधान में कपड़े की बोरियों को न्यू तिनसुकिया रेलवे स्टेशन से राज्य के विभिन्न जिलों और अरुणाचल प्रदेश में ले जाया जाता है।कपड़ों की यह अवैध व्यापर तिनसुकिया में वर्षों से चली आ रही है।बिहू और दुर्गा पूजा के चलते सैकड़ों करोड़ का कारोबार होता है। हालांकि, यह रहस्यमय है कि जीएसटी विभाग इस संबंध में चुप क्यों है।

कुछ दिन पहले भी तिनसुकिया पुलिस ने अवैध कपड़े जब्त किए थे। आज फिर सुबह तिनसुकिया के लोहिया रोड पर एक ट्रक से अवैध कपड़े जब्त किया गया ट्रक को तिनसुकिया सदर पुलिस स्टेशन ले जाया गया और अवैध कपड़े डीलरों के खिलाफ जांच जारी है।

वही इस पूरी मामले को लेकर ताई आहोम युवा परिषद् के जिला सभापति दीपांकर गोगोई कहा की त्योहारों के दौरान व्यापारियों के एक समूह द्वारा अवैध व्यापार किया जाता है । उन्होंने पुलिस से कर चोरी करने वाले कपड़ा व्यापारियों की पहचान करने और उन्हें दंडित करने की भी मांग की।