तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम यानी TSRTC के लॉजिस्टिक्स डिवीजन ने प्रदेश में नया झंडा गाड़ा है। निगम के इस डिवीजन को न केवल आम लोगों से बल्कि निजी कंपनियों से भी पोजिटिव रिएक्शन्स और प्रोटक्शन मिल रहा है और इसका नतीजा ये है कि निगम को जबरदस्त राज्सव हासिल हुआ है। साल 2022 में लॉजिस्टिक्स विंग ने नागरिकों और निजी फर्मों के बीच सेवाओं की लोकप्रियता को दर्शाते हुए लगभग 90 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया।

राज्य परिवहन निगम ने पांच साल पहले 2018 में अपनी कार्गो सेवाएं शुरू कीं और राज्य भर के सभी बस अड्डों में इसका विस्तार किया। अब तक 108 लाख पार्सल बसों के जरिए ले जाए गए है और कार्गो और पार्सल दोनों के लिए सेवाओं से तकरीबन 200 करोड़ रुपये का राजस्व हासिल किया गया। अप्रैल 2022 में कार्गो सर्विस को नया आकार दिया गया और लॉजिस्टिक्स डिवीजन के रूप में नाम दिया गया। वर्तमान में निगम कहीं भी 15,000 से 18,000 पार्सल डिलीवर करता है और प्रतिदिन लगभग 25 लाख रुपये कमाता है।

पार्सल को देश के हर हिस्से में बिना किसी बाधा के और नियत समय पर पहुंचाने के लिए निगम ने कुछ बड़ी फर्मों और सरकारी विभागों के साथ एग्रीमेंट किया है। TSRTC के अधिकारियों का कहना है कि लॉजिस्टिक्स डिवीजन के जरिए माल या पार्सल की ऑनलाइन बुकिंग से लेकर उनकी डिलीवरी तक ग्राहक उसकी मौजूदा स्थिति को ऑनलाइन ट्रैक कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि हाल में ये देखा गया है कि कई निजी लॉजिस्टिक्स कंपनियां भी बेहतर और हैसल फ्री सर्विस के लिए राज्य की तरफ से संचालित आरटीसी लॉजिस्टिक्स डिवीजन के माध्यम से अपना सामान भेजने में रुचि दिखा रही हैं।

आरटीसी अधिकारियों को टेक्निकल और लॉजिस्टिक सर्विस से संबंधित कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा और वर्तमान में ग्राहकों के लिए सेवाओं को और आसान बनाने के तरीकों की समीक्षा कर रहे हैं। 443 प्राइवेट एजेंटों की नियुक्ति के अलावा प्रमुख बस स्टेशनों पर 177 कार्गो और पार्सल केंद्र स्थापित किए गए। बल्क गुड्स ट्रांसपोर्टेशन के लिए 193 कार्गो ट्रांसपोर्ट व्हीकल्स बनाए गए हैं जो सरकारी विभागों के सामानों के ट्रांसपोर्टेशन के लिए उपयोग किए जाते हैं।