तेलंगाना सरकार ने घोषणा की है कि दुनिया की बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के तीन और डेटा सेंटर स्थापित करके हैदराबाद में अपने डेटा सेंटर के विस्तार की योजना बनाई है। सरकार ने बताया कि पिछले साल माइक्रोसॉफ्ट ने हैदराबाद में अपने तीन कैप्टिव डेटा सेंटर के निवेश की घोषणा की थी, जिनमें हर एक में 100 मेगावॉट आईटी (IT) की क्षमता थी। अब माइक्रोसॉफ्ट ने इस निवेश में इसे 6 सेंटर तक पहुँचाने लक्ष्य रखा है, जिसमें प्रत्येक में 100 मेगावॉट आईटी लोड देने की क्षमता होगी।

दावोस में माइक्रोसॉफ्ट के अधिकारियों और सरकार ने आगामी योजनाओं के बारे में चर्चा की। बताया जा रहा है की ये डेटा सेंटर दुनिया भर में अपने एज्योर के ग्राहकों की सेवा के लिए अपने क्लॉउड ट्रांसफर को मज़बूत करेगा। इन डेटा सेंटर को अगले 10-15 साल में चरणबद्ध रूप से लगाने का अनुमान है। माइक्रोसॉफ्ट ने अपने तीन कैप्टिव डेटा सेंटर्स के बारे में 2022 में घोषणा की थी।

माइक्रोसॉफ्ट एशिया के प्रेजिडेंट अहमद मज़हारी ने कहा कि, ' हैदराबाद पूरी दुनिया में एक महत्वपूर्ण बाज़ार है और हम यहाँ निवेश करना जारी रखेंगे। तेलंगाना में हम जिन डेटा सेंटर्स की तैनाती करेंगे वे भारत में माइक्रोसॉफ्ट के पूर्ण स्वामित्व वाली योजनाएं हैं। "

राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रामा राव ने कहा कि, " माइक्रोसॉफ्ट और हैदराबाद के बीच बहुत लंबे समय तक पारस्परिक रूप से लाभकारी संबंध रहे हैं और मुझे यह जानकार ख़ुशी है कि माइक्रोसॉफ्ट इतनी बड़ी डिजिटल बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के साथ तेलंगाना में विस्तार करेगी। मैं राज्य में माइक्रोसॉफ्ट के विस्तार को लेकर उत्सुक्त हूँ। " उन्होंने बताया कि इस योजना के बारे में दावोस, स्विट्ज़रलैंड के माइक्रोसॉफ्ट कैफ़े में चर्चा हुई थी।