हंसराज कॉलेज में नॉनवेज बैन पर कल छात्र संगठन SFI केरगा प्रदर्शन दिल्ली विश्वविधालय के हंसराज कॉलेज में पिछले साल फरवरी से नॉनवेज पर प्रतिबंध लगा हुआ है। कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र इसका लगातार विरोध कर रहे हैं।

कॉलेज प्रशासन के इस फैसले से छात्रों के अंदर भारी रोष है, छात्रों का कहना है कि कॉलेज ने इस मामले से संबंधित कोई अधिकारिक नोटिस नहीं दिया था। ये मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। छात्र कॉलेज में नॉनवेज बैन के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे हैं उनका कहना है कि कॉलेज इस फैसले को वापस ले। वहीं हंसराज कॉलेज के प्रिंसिपल ने इस आदेश को वापस लेने से इनकार कर दिया है।

SFI कल करेगा प्रदर्शन

आपको बता दें कि छात्रों ने इस फैसले के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 20 जनवरी को छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया हंसराज कॉलेज की इकाई इस फैसले के खिलाफ प्रदर्शन करेगा। SFI ने आरोप लगाते कहा है कि कॉलेज में भगवाकरण करने की कोशिश की जा रही है। नॉनवेज भोजन पर बैन के खिलाफ कल परिसर में प्रदर्शन किया जाएगा।

आपको बता दें कि एसएफआई ने आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसे मालमें सामने आए हैं जब स्टूडेंट्स के होस्टल के रूम में रखे अंडे को हंसराज प्रशासन ने जब्त कर लिया। कॉलेज की प्रिंसिपल ने दावा किया था कि परिसर में केवल 90 फीसदी छात्र शाकाहारी हैं। लेकिन हमने सर्वे कराया तो ये बात सामने आई कि कॉलेज में 75 फीसदी छात्र मांसाहारी हैं।

पिछले साल से बैन है नॉनवेज

छात्रों ने बताया की पिछले साल फरवरी में जब कॉलेज खुले थे तो कैंटीन आर होस्टल में नॉवेज भोजन को बंद कर दिया था। उनका ये भी कहना है कि क़लेज प्रशासन की तरफ से इससे जुड़ा कोई भी नोटिस नहीं दिया गया था।

प्रिंसिपल रमा शर्मा का बयान

हंसराज कॉलेज के प्रिंसिपल रमा शर्मा ने अपने फैसले को वापस लेने से मना कर दिया है। उनका कहना है कि दिल्ली विश्वविधाल के कॉलेज आर्य समाज के नियमों का पालन करते हैं। इसलिए नॉनवेज बैन के फैसले को वापस नहीं लिया जाएगा। होस्टल के प्रोस्पेक्टस में साफ लिखा है कि छात्रवास में मांसाहारी भोजन नहीं परोसा किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...

Halal Meat के निर्यात के लिए केंद्र सरकार ने तैयार किया ड्राफ्ट