दिल्ली के जामा मस्जिद में लड़कियों पर बैन लगाने वाले नोटिस को वापस लेने का फैसला लिया गया है। दिल्ली के LG वीके सक्सेना ने इस सिलसेले पर में जामा मस्जिद के शाही इमाम से बात की थी। उस बातचीत के बाद ही विवादित नोटिस को वापस लेने की बाद कहीं जा रही है। आपको बता दे कि दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने शाही इमाम को जारी किया था नोटिस।

 दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने जामा मस्जिद के शाही इमाम को हाल ही में जामा मस्जिद में महिलाओं के अकेले या समूह में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने पर संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया है।

दिल्ली महिला अयोग अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि ये बहुत ही शर्मनाक और गैर संवैधानिक हरकत है। इन्हें क्या लगता है ये भारत नहीं ईरान है कि इनका जब मन करेगा महिलओं से ये भेदभाव करेंगे और इन्हें कोई कुछ नहीं कहेगा। जितना हक एक पुरुष का इबादत करने का है उतना ही एक महिला का भी है।" दिल्ली महिला आयोग ने शाही इमाम को नोटिस जारी किया है। हम चाहते हैं कि ये गैर संवैधानिक हरकत तुरंत खत्म हो।

 

जामा मस्जिद के PRO सबीउल्लाह खान ने कहा, जो अकेली लड़कियां यहा आती है वीडियो बनाती है इसपे रोक लगाई गई है अगर आप अभी .यहां चारों तरह देखे तो महिलाएं मौजूद है उन्होने कहा कि आप परिवार वालों के साथ आएं कपल आएं कोई रोक टोक नहीं है पर यहा किसी को समय देना मीटिंक पॉइंट बनाना पार्क बनाना ये किसी भी धर्म स्थल के लिए नहीं है चाहे वो मंदिर हो या मस्जिद। उन्होने कहा कि "अकेली लड़कियों के प्रवेश पर रोक लगाई गई है। यह एक धार्मिक स्थल है, इसे देखते हुए निर्णय लिया गया है। इबादत करने वालों के लिए कोई रोक नहीं है।"

 
और पढ़े...